Sai Bavani is the song of praise about Shirdi Sai. Sai Devotees who cannot read Sri Sai Satcharitra everyday can recite or sing this with devotion atleast once a day.

Sai Bavani

 

Jai ishwar jai Sai dayal, tu hi jagat ka palan har Datta digambar prabhu avtar, tere bus me sab sansar

जय ईश्वर जय साई दयाल, तू ही जगत का पालनहार, दत्त दिगंबर प्रभु अवतार, तेरे बस में सब संसार!

Brahma yukt shankar avtar, sharnagat ka pranadhar Darshan dedo prabhu mere, meeta do chorasi fere

ब्रम्हाच्युत शंकर अवतार, शरनागत का प्राणाधार, दर्शन देदो प्रभु मेरे, मिटा दो चौरासी फेरे !

Kafni tere ek saya, jholi kande latkaya Neem taley tum prakat hue, fakeer bankae tum aaye

कफनी तेरी एक साया, झोली काँधे लटकाया, नीम तले तुम प्रकट हुए, फकीर बन के तुम आए !

Kalyug me avtar liya, patit pavan tum ne keya Shirdi gaon me vas keya, longo ke mann lubha liya

कलयुग में अवतार लिया, पतित पावन तुमने किया, शिरडी गाँव में वास किया, लोगो को मन लुभा लिया!

Chilam thi shobha haatho ki, bansi jaise mohan ki Daya bhari thi aakho me, amrit dhara baanto me

चिलम थी शोभा हाथों की, बंसी जैसे मोहन की, दया भरी थी आंखों में, अमृतधारा बातों में!

Dhannya dwarka woh mai, sama gaye jaha Sai Jal jata hai paap waha, baba ki hai dhuni jaha

धन्य द्वारका वो माई, समां गए जहाँ साई, जल जाता है पाप वहाँ , बाबा की है धुनी जहाँ!

Bhula bhatka me aanjan, de mujhko apna vardan Karunasindhu prabhu mere, lakhoan baitaih dar pai tere

भूला भटका मैं अनजान, दे मुझको तेरा वरदान करुनासिंधु प्रभु मेरे, लाखों बैठे दर पे तेरे

Agnehotri shastri ko, chamatkar tum ne dikhlaya Jevandan shama paya, jehar saap ka utraya

अग्निहोत्री शास्त्री को, चमत्कार तुने दिखलाया जीवनदान शामा पाया, ज़हर सांप का उतराया

Pralahe kaal ko rok liya, bhagto ka bhaye door kiya Mahamari benam kiya, shirdipuri ko bacha liya

प्रलयकाल को रोक लिया, भक्तो को भय मुक्त किया महामारी बेनाम किया, शिर्डी पूरी को बचा लिया

Pranam tumko mere ish, charano mai tere mera sheesh Mann ki asha poori karo, bhavsagar se pakar karo

प्रणाम तुझको मेरे ईश, चरणों में तेरे मेरा शीश मन की आसपूरी करो, भव सागर से पार करो

Bhakt bhimaji tha bimar, kar baitha tha soa upchar Dhanaya sai ki pavitra udi, mita gayi uski shay vyadhi

भक्त भीमाजी था बीमार, कर बैठा था सौ उपचार, धन्य साई की पवित्र उदी, मिटा गई उसकी शय व्याधि!

Dhikhlaya tune vitthal roop, kakaji ko swayam swaroop Damu ko santan diya, mann uska santusht kiya

दिखलाया तुने विथल रूप, काकाजी को स्वयं स्वरूप, दामु को संतान दिया, मन उसका संतुशत किया!

Kripanidhi ab kripa karo, deen dyaloo daya karo Tan mann dhan arpan karo, de do sadgati prabhu muzhko

कृपाधिनी अब कृपा करो, दीन्दयालू दया करो, तन मन धन अर्पण तुमको, दे दो सदगति प्रभु मुझको!

Medha tumko na jana tha, muslim tumko mana tha Swayam tum ban kai shivshankar, bana diya uska kinkar

मेधा तुमको न जाना था, मुस्लिम तुमको माना था, स्वयं तुम बन के शिवशंकर, बना दिया उसका किंकर!

Roshnai ki chirango se, tailay ke badlay pani se Jisne dekha ankho haal, hall uska huaa behaal

रोशनाई की चिरागों में, तेल के बदले पानी से, जिसने देखा आंखों हाल, हाल हुआ उसका बेहाल!

Chand bhai tha uljhan me, ghode ke karan mann me Sai ne ki aisi kirpa, ghoda phir se vehai pa saka

चाँद भाई था उलझन में, घोडे के कारण मन में, साई ने की ऐसी कृपा , घोडा फिर से वह पा सका!

Shradha saburi mann me rakho, sai - sai nam rato Poori hogi mann ki aas, kar lo sai ka nij dhyan

श्रद्धा सबुरी मन में रखों, साई साई नाम रटो , पुरी होगी मन की आस, कर लो साई का नित ध्यान !

Jan ke khatra tatya ka, daan di apni ayoo ka Reen bayejaka chuka diya, tum ne sai kamal kiya

जान का खतरा तत्याँ का , दान दिया अपनी आयु का, ऋण बायजा का चुका दिया, तुमने साई कमाल किया!

Pashupakshi per teri lagan, pyar me tum thai unke magan Sab per teri reham nazar, lete sab ki khud hi

पशुपक्षी पर तेरी लगन, प्यार में तुम थे उनके मगन, सब पर तेरी रहम नज़र , लेते सब की ख़ुद ही ख़बर!

khabar Sharan me tere jo aaya, tumne usko apnaya Diye hai tumne gyara vachan, bhagto ke prati lekar aan

शरण में तेरे जो आया , तुमने उसको अपनाया, दिए है तुमने ग्यारह वचन, भक्तो के प्रति लेकर आन!

Kan- kan me tumho bhagwan, teri leela shakti mahan Kaise karu tere gungan, budhee heen me hu nadan

कण-कण में तुम हो भगवान, तेरी लीला शक्ति महान, कैसे करूँ तेरे गुणगान , बुद्धिहीन मैं हूँ नादान!

Deen dayalu tum ho data, hum sab ke tum ko trata Kripa karo ab sai mere, charno me le lo ab tere

दीन्दयालू तुम हो हम सबके तुम हो दाता , कृपा करो अब साई मेरे , चरणों में ले ले अब तुम्हारे!

Subha sham sai ka dhyan, sai leela ke gungan Dereen bhagti se jo gayega, param pad ko veh payega

सुबह शाम साई का ध्यान , साई लीला के गुणगान, दृढ भक्ति से जो गायेगा , परम पद को वह पायेगा!

Har din subha aur shaam ko, gaaye Sai bhavani ko Sai deinge uska saat, lekar aapne haat me haat

हर दिन सुबह शाम को, गाए साई बवानी को, साई देंगे उसका साथ , लेकर हाथ में हाथ!

Anubhav tripti ke yeh bol, shabad bade hai yeh anmol Yakeen jisne maan liya, jevan usne safal kiya

अनुभव त्रिपती के यह बोल, शब्द बड़े है यह अनमोल, यकीन जिसने मान लिया , जीवन उसने सफल किया !

Sai shakti viraat swaroop, manmohak sai ka roop Gaur se dekho tum bhai, bolo jai sadgru sai

साई शक्ति विराट स्वरूप , मन मोहक साई का रूप,गौर से देखों तुम भाई, बोलो जय सदगुरु साई!

 
Get it now
Disclaimer

 

"Content for this section is taken from Official website of Shirdi Sai Sansthan and various other social media platforms and Newspapers. In case of any editions or removal of any content, you may directly email the admin. We have no intention to portray any un-realistic image. Visitors who use this website and rely on any information shall do so at their own risk."